डिजिटल वॉलेट क्या होता है ? डिजिटल वॉलेट के प्रकार और विशेषताएं क्या है ?

digital wallet kya hota hai hindi, digital wallet kitne prakar ka hota hai, digital wallet ka upyog kaise kiya jata hai, e wallet ka udaharan kya hai, digital wallet ki visheshta bataye


Published: June 8th, 2023

Share on Whatsapp Share on Facebook Share on Twitter Share on Linkedin

जब से डिजिटल युग आरम्भ हुआ है दुनिया भर में कई कार्यो को डिजिटल माध्यम से करने में आसानी होने लगी है इसका सबसे अधिक फायदा ये हुआ है की लोग दुनिया के किसी कोने में बैठकर ढेर सारे कामो को आसानी से निपटा लेते है आज के लेख में हम आपको ऐसे ही एक डिजिटल प्लेटफार्म के बारे में बताने वाले है जिसे डिजिटल वॉलेट या इ वॉलेट कहा जाता है दुनियाभर में डिजिटल वॉलेट का उपयोग तेजी से बढ़ रहा है पूरी जानकारी के लिए हमारे साथ अंत तक जरूर बने रहे ।

डिजिटल वॉलेट क्या होता है ?

डिजिटल वॉलेट या इ वॉलेट एक सॉफ्टवेयर पर आधारित युक्ति है जिसके माध्यम से आप अपने पैसे के लेन-देन को कैश में न करके ऑनलाइन या डिजिटल रूप में करते है इसे इलेक्ट्रॉनिक बटुआ भी कहा जाता है इसमें लेन-देन करना बहुत ही आसान हो गया है और तेजी से बढ़ता जा रहा है ।

डिजिटल वॉलेट कैसे काम करता है ?

डिजिटल वॉलेट का इस्तेमाल करने के लिए संबंधित ऐप को मोबाइल में डाउनलोड कर अपने बैंक खाते से सम्बंधित जानकारी को दर्ज़ कर रजिस्ट्रेशन करना होता है जानकारी पूर्ण होने के बाद आप अपने मोबाइल फ़ोन ऐप की मदद से डिजिटल वॉलेट का इस्तेमाल आसानी के साथ कर सकते हो ।

डिजिटल वॉलेट का इतना महत्व क्यों है ?

डिजिटल वॉलेट का इतना महत्व इसलिए दिया जाता है क्योकि इसकी मदद से लेन-देन करना बहुत आसान हो गया है इससे आप किसी भी समय कही से भी लेन-देन  तेजी और आसानी से कर सकते हो साथ ही इसमें धोखाधड़ी और अन्य खतरे कम होते है डिजिटल वॉलेट का उपयोग करने से उपयोगकर्ता को अपने बैंक से संबंधित कार्य आसान हो गए है जिससे ये लोकप्रिय होता जा रहा है ।

डिजिटल वॉलेट के प्रकार कितने है ?

डिजिटल वॉलेट मुख्या रूप से 3 प्रकार के क्लोज्ड, सेमी-क्लोज्ड और ओपन :

1. क्लोज्ड या बंद बटुआ : इसका मुख्य रूप से इस्तेमाल उत्पादों और सेवाओं को बेचने वाली कम्पनी के द्वारा किया जाता है जिसमे वह कम्पनी अपने ग्राहकों के रिटर्न और कैंसिलेशन का पैसा जमा कराती है उपयोगकर्ता उस वॉलेट का इस्तेमाल कर लेन-देन कर सकते हैं ।

2. सेमी-क्लोज्ड या अर्ध-बंद बटुआ : सेमी-क्लोज्ड वॉलेट का इस्तेमाल उपयोगकर्ता किसी भी स्थान पर करने में सक्षम होता है इसके लिए उपयोगकर्ता को अन्य किसी से लेन-देन के लिए एक कुंजी या पासवर्ड की मदद लेनी होती है जिसे संग्रहित कर आसानी से लेन-देन किया जा सकता है ।

3. ओपन या खुला बटुआ : ओपन वॉलेट के इस्तेमाल के लिए उपयोगकर्ता किसी भी डिवाइस या ब्राउज़र का इस्तेमाल कर एक ओपन वॉलेट को डाउनलोड कर अपने लेन-देन को कर सकता है ओपन वॉलेट का इस्तेमाल ऑनलाइन भुगतान जानकारी को प्रबंधित और ट्रैक करने के लिए भी किया जाता है ।

हमे उम्मीद है की हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद आयी होगी ऐसी ही जानकरियों के लिए आप हमे कमेंट कर सकते है और हमारे पेज को फॉलो भी कर सकते है हम आपको आगे भी ऐसी जानकारियां देते रहेंगे ।

अरविन्द कुमार
(ब्लॉग एडमिन)


**Related Tags**

**Google Search Tags**

digital wallet kya hota hai hindi

Leave a comment